ख़ुशियाँ बने बनाए नहीं मिलती

ख़ुशियों को पाने के लिए दो चीज़ लगती है। वे है परिश्रम और समय। ख़ुशियाँ खरीदी नही जा सकती है। अगर हम कुछ चाहिए तो हम उसकी खुशी पाने के लिए हमारी पूरी लगन परिश्रम करने में लगा देंगे। यह करने से ही हमे हमारे द्वारा चाहने वाली खुशी...

Read More