Author: admin_avmbw

ख़ुशियाँ बने बनाए नहीं मिलती

ख़ुशियों को पाने के लिए दो चीज़ लगती है। वे है परिश्रम और समय। ख़ुशियाँ खरीदी नही जा सकती है। अगर हम कुछ चाहिए तो हम उसकी खुशी पाने के लिए हमारी पूरी लगन परिश्रम करने में लगा देंगे। यह करने से ही हमे हमारे द्वारा चाहने वाली खुशी...

Read More

क्या है स्कूल?

जो बंध आखों के सपनों को खुली आखों से जोड़े, वह हैं स्कूल स्कूल वह हैं जहा सुबह उठ कर आने में बहुत आलस अता है और गेट के अंदर आने से पहले बैज और बाल के बहाने तो बन ही जाते हैं। स्कूल वह हैं जहा दोस्त हैं, वह दोस्त जिनके बिना अब...

Read More

खुशियाँ बनी बनाई नहीं मिलती

ख़ुशी एक ऐसी चीज़ होती हैं जो बनी बनाई नहीं मिलती हैं। इसे प्राप्त करने के लिए मेहनत और बलिदान की ज़रुरत होती हैं। ख़ुशी बाज़ार में जाकर नहीं खरीद सकते । जीवन तभी अच्छा  लगता हैं जब वह प्रसन्नता से भरी हो, इसीलिए बुरे कामों से ख़ुशी...

Read More

खुशियाँ बनी बनाई नहीं मिलती

बस हमारी निकली ६ बजे सब रंगीन कपड़ो में सजे | गीत गाते हुए निकले हम पीछे छोड़े सारे गम | दोस्तों के साथ मारते किलकारी ताज़ा करते यादें सारी | फिर आ पहुंचे हमारे घर जिसका नाम था जवाहर| उस वातावरण ने हमें घेर लिया हमारी सारी थक्कान...

Read More

खुशियाँ बनी बनाई नहीं मिलती

सब लोग खुशी को दुनिया के, हर कोने में ढूंढ़ते है I पर वह यह नहीं समझते , की खुशी हर एक के दिल में हैं I मेहनत का फल  हमेशा , मीठा होता हैं I कुछ किए बिना कभी , खुशियाँ बनी बनाई नहीं मिलती I अब जो खुशी , तुम्हारे पास हो I उसे बहुत...

Read More

FROM OUR ARCHIVES

Powered by Intellischools