सब लोग देखते है कुछ सपने ,

यहाँ होते हैं हमारे करीब जैसे हो हमारे अपने ,

कभी न कभी देखा होगा अपने भी एक खवाब ,

इन अनमेल सपनो का नहीं लगाया जा सकता हिसाब। 

बिना परिस्थिति से डरे सपने की और बढ़े ,

पूरे जूनून से अपनी सफलता की सीढ़ी चढ़ो।

छोटी या बड़ी नै होती ख्वाब ,

इनकी प्राप्ति से हो जाती है जीवन लाजवाब।

एक व्यापर सोचता कि कब कड़ी करेंगे एक और दुकान ,

आम आदमी सोचता की कब  खरीदेगा खुद की मकान।

छात्र सोचता कि  कब कक्षा में अवल आए।,

सब की तमन्ना होती है कि  वह सर्वश्रेष्ठ बन जाए।

लाखो लोगो के अक्सर सपने रह जाते है अधूरे ,

बहुत कम लोगो के होते है सरे सपने पुरे।

पर अगर इरादे हो पक्के और हौसला हो मज़बूत ,

तो परेशानी में  मदद के लिए आ जाते है देवदूत।

अगर महत्तवाकांक्षी बनकर तुम एड़ी छोटी का जोर लगाओगे ,

फिर तुम अवश्य हे अपने सरे सपने पूरे कर पाओगे।

देखते है कुछ सपने हम सभी ,

कुछ के पूर्ण होते है ,

पर कुछ सोचते रह जाते की पूरे होंगे कभी ?

ज़िन्दगी में  कुछ भी प्राप्त करने के लिए स्वप्न देखना है ज़रुरत ,

सपनो के बिना रह जाती है ज़िन्दगी अधोरी।

वह सपने जो आप देखते है सोते – सोते ,

जो सपने है होते।

जिसको पाने के लिए हो आपकी शिदत्त बेशुमार ,

इस मंज़िल को प्राप्त करने के लिए कर पाओगे हर मुश्किल को पर।

~ कृष खेसकानी

९ C

आर्य विद्या मंदिर जुहू