संगीत! मेरी जिंदगी का एक अहम हिस्सा है। संगीत में केवल सुर या राग नहीं होते, उसमें भावनाएँ भी होती है। संगीत मेरी और सबकी आत्माओं में बसता है, उसकी धुन , उसके शब्द मन को शांति देते है। इंसान भले ही कितना भी दुखी हो पर अपना पसंदीदा संगीत सुनते ही अपने हर दुख भूल जाता है और यही शायद संगीत का असली मतलब है। संगीत तो कई लोग सुनते है और गाते भी है परंतु जो उसे महसूस करता है वही असली कलाकार होता है और एक संगीत ही है जो आपको – आपसे जोड़े रखता है। इस प्रकृति ने भी हमें  संगीत से जोड़े रखा है जैसे चिड़िया की चहचाहत, हवा  से हिलते हुए पत्ते , नदियों एवं झरने की आवाज़, बादलों की  गड़गड़ाहट, जो हमें अपने-पन का अहसास दिलाता है। संगीत ही मेरा दिल, मेरी जान और  मेरी आत्मा   है।

श्रेया सिंह

9 ARelated image
A.V.M B.W.