यह एक छोटी सी कविता है जो भगवान ने लिखी ।
चिन्ता मत करो, खुश रहो
मेरे बच्चे आप सभी चिन्ता से मुक्त हो जाओ ।
कभी – कभी जीवन थोडा ठहरा हो जाता है ,
मुझे दे दो, मै नही झुकूँगा और ना मै सोता हूँ ।
चिन्ता मत करो , खुश रहो ।
आप सो नही सकते है क्योंकि कई चीज़े
आपके मन मे है,
मेरे शब्द मे आओ और आप पाएँगे,
चिन्ता मत करो, खुश रहो ।
चीज़ो के बारे मे सोचो तो शुद्ध चीज़ो के बारे मे सोचो
और आप पाएँगे कि इलाज है ।
चिन्ता मत करो खुश रहो ।
एसा कुछ नही जो मै हल नही कर सकता ।
तो क्रप्या मुझे शामिल होने दें ।
चिन्ता मत करो खुश रहो ।
मुझसे पूछें प्रार्थना करें, संवाद करे ,
नाराज़ मत रहो, भाग लो ।
चिन्ता म्त करो , खुश रहो ।
इसलिए यदि आपको कुछ एसा मिल गया है जो
बहुत कठिन है ,
मेरा विशवास करो , मुझ पर भरोसा करो , मै भगवान हूँ ।
चिन्ता मत करो खुश रहो ॥

Tanish Vyas – 5A