हमारे जीवन काल में समय – समय पर हमें कई मुश्किलों, कठिनाइयों और परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इन सभी कठिनाइयों और मुश्किलों का सामना करते हुए हम कई बार गल्तियाँ भी करते हैं ।इन्हीं गल्तियों से हमें अनुभव प्राप्त होता है। यही अनुभव भविष्य में हमारी मदद करते हैं ।हमारे अनुभव हमें और अधिक समझदार और काबिल बनाते हैं ।बाल्यावस्था से लेकर वृद्धावस्था तक जीवन में कई तरह के अनुभव प्राप्त होते हैं ।बचपन में अच्छे -बुरे दोस्तों का अनुभव, तरुणावस्था में नौकरी- व्यवसाय का अनुभव ,वैवाहिक जीवन का अनुभव, माता -पिता बनने का अनुभव और ऐसे कई अनुभव हमारे शिक्षक के रूप में हमारा मार्गदर्शन करते हैं। हमें ज्ञान अनुभव से प्राप्त होता है और हमारा अनुभव हमारी गल्तियों और कमियों से प्राप्त होता है। अतः इसमें कोई संदेह नहीं कि हमारा समस्त ज्ञान का आरंभ अनुभव से होता है ।अनुभव एक कठोर शिक्षक है जो पहले परीक्षा लेता है और बाद में हमें पाठ पढ़ाता है ।


फलक वधान

छठी क

आर्य विद्या मन्दिर (बांद्रा पूर्व)

ReplyReply allForward