Be Happy, Don’t Worry.

Don’t worry be happy, this time will not come again,

Enjoy every moment of your precious life ,

Never stab yourself with a knife ,

These moments go really swift,

Always be happy with life’s gifts.

Never take tension,

Even if you don’t receive your pension,

Never do anything that will make you sad,

Or else because of sadness you’ll get mad,

Treasure each moment of your life,

And you’ll get your happiness in every trice.

Never be filled with sorrow,

Or else the judgement of your life will be tomorrow,

Never be afraid to fail,

And you’ll end up on a luxurious sail.

Good things I will bring,

Something like a beautiful swing,

After that you’ll be happier than a king,

Never fight,

Or else you’ll get fits on a full moon night.

                                                                          -Maalav Desai

                                                                           VCW AVM

Happiness depends on us.

खुशी खुद पर निर्भर  है।

छोटी – सी जिंदगी है, हर बात में खुश रहो।

जो चेहरा पास न हो,उसकी आवाज़ में खुश रहो।
कोई रूठा हो तुमसे,उसके इस अंदाज़ में भी खुश रहो।
जो लौट के नहीं  आनेवाले,उन लम्हों की याद में खुश रहो।
कल किसने देखा है, अपने आज में खुश रहो।
क्यों तडपते हो हर पल किसी के साथ को, कभी तो अपने  आप में खुश रहो।
छोटी -सी तो जिंदगी है,
हर हाल में खुश रहो।
नाम – दृष्टी
स्कूल – आर्य विद्या मंदिर (बांद्रा-पूर्व)
कक्षा – ३/क

Getting Lost in the Right Direction.

Wanderlust

Ever since I was born, my family has constantly been shifting from one city to another. I was born in
Chennai and lived in three different houses till the age of two, after which I moved to Gurgaon. I
spent almost seven years in Gurgaon before moving back to my birthplace. Even after this, I studied
in two different schools there before moving to Mumbai three years ago. So you could say that half
the travelling in my life has been done just by changing what part of the country I live in.
I spent much of my early years in Delhi and the next few years in Chennai, polar opposites in
everything from the temperature to the people. Moving to new places so many times has given me a
certain thirst for change, a need to move and to keep moving. I suppose this would be the root cause
for my love for travel. Oh, and I forgot to mention, my native place is Bangalore. So I spend about a
month there every year.
When I’m trekking in hills unheard of, in some remote mountainous forest in the Himalayas, or
watching a sunset over the Golden Gate Bridge, or even looking at the heritage structures in this
city, I learn something new every second. There’s something about that thrill-that spark of
excitement-that feeling of not knowing what you’re going to see next-that attracts me, and a billion
other people, to this way of life.
One of the best memories I have, the fleeting, one-second- long kind, is when I was hundreds of
metres above the ocean in south Goa, parasailing when I was a terrible swimmer with no knowledge
of winds, currents or direction. The thing is, it was all so quick. One moment, I’m being given a life
jacket and ropes and attached to a parachute, the next thing, I’m rising into the sky while my parents
wave from down. The ocean was blue and green and all shades in between, and it was a rippling
giant that extended to the end of the world. The beach was white with swaying coconut trees and
looming cliffs all around, and the sky was full of everything and nothing.
Once I was in the air, there was a silence unlike one ever experienced by me before. I looked around
me and laughed into the universe.

Someone great once said, “It feels good to be lost in the right direction.” And it does. It really does.

~Ankita Murthy

VCW AVM     9C

Editorial Team

WONDERLUST – a strong desire to travel

The man in khaki clothes,
Had a desire to remove his woes.
So he went into the wild,
To relive as a child.
He kept his possesions old,
It were for him, pieces of gold.
He remembered the old times,
When mountains he climbed.
He saw rivers with beautiful fishes
Which were his blisses.
“How pretty nature is”, he said
On how much he cared.
‘Khaki man’ he called himself
Travelling in a vehicle shelf.
With friends who were there;
For a good cause,
Nature it was.
And when he was with them,
His tough time, all would end.
He had a strong desire to travel,
With a smile in a cradle.

Tanushree Jain
7A
VCW ARYA VIDYA MANDIR BANDRA [east]

WANDERLUST- A desire to travel

Sometimes a thought strikes me,

What if I could glide over the highest cloud,

Or swim in the deepest sea.

Oh I wish, I wish it was for me.

If I could jump from the highest mountain,

Into the coldest glacier valley there ever could be.

Or fly free like a bird

Swooping up and down in the winds of glee.

Farther and further keep moving on’

Till you reach the deepest treasure’

Discover Cinderella’s palace gone’

Or wake the sleeping beauty forever.

What if I came across Captains shield,

Then met the witch of Scarlet,

Found pieces of the hammer of Thor,

And became one of them by the venom of Jarvis.

What if I joined the order of the Phoenix,

Or became one of a vampire lately,

Turned into a powerful demigod,

Or became an alien unknowingly.

And still on every full moons night,

I become a werewolf of dreams,

Travel all these experiences once more,

Till I reach reality.

-Swaraa Sule

7 A

Arya Vidya Mandir (Bandra East)

Don’t worry be happy.

Don’t worry be happy,
Stress and tension are all scrapy.
Happy times are what you deserve,
Happy memories are to be preserved!
I know you are sick and tired,
The gun is left to be loaded, aimed and fired!
Work and study is just a worry,
Don’t let the doctor say a sorry!
Eat, sleep and repeat,
Some love is all you need!
Depression isn’t the end,
let me be your friend!
Even though cotton is not tin,
A little effort is what it takes to win!
Give it a chance,
Because you only live once!
Life is all about being strong, (mentally)
Believe me you will live long!
Sadness and tension is for some time, Don’t worry you will be fine!
Finding yourself is all you want,
But don’t give up and say I can’t!
Because everyone wants happiness not pain,
But you can’t have a rainbow without rain!
Riya Priyadarshi
7 A
Roll no:- 10
Avm Bandra (east)

Happiness is dependent on ourselves.

खुशी  हमारे आत्म पर निर्भर करती  है
ज़िन्दगी है छोटी हर पल में खुश हूँ ।
काम में खुश हूँ , आराम में खुश हूँ ।
आज पनीर नहीं , दाल में खुश हूँ ।
आज गाड़ी नहीं , पैदल ही खुश हूँ ।
आज कोई नाराज़ है , उसके इस अंदाज से ही खुश हूँ ।
जिसको देख नहीं  सकता, उसकी आवाज़ से ही खुश हूँ ।
जिसको पा नहीं  सकता  , उसको सोच कर ही खुश हूँ ।
बीता हुआ कल जा चुका है, उसकी मीठी याद में ही खुश हूँ ।
आने वाले  कल का पता नहीं , इंतज़ार में ही खुश हूँ ।
हँसता हुआ बीत रहा है पल, आज में ही खुश हूँ ।
ज़िंदगी है  छोटी, हर पल में खुश हूँ ।
अगर दिल को छुआ, तो जवाब देना वरना बिना जवाब के भी खुश हूँ ।
श्वेनी  शेट्टी
तीसरी – क
आर्य विद्या  मंदिर , बांद्रा ( पूर्व )

Happiness depends on ourselves

जब मैं छोटा बच्चा था
बिन बात के हँसता रहता था
ना कुछ समझ थी, ना कुछ समझता था
फिर भी हर दम चहकता रहता था
माँ की लॉरी से राते मधुर हो जाती थी
ऑचल में उनके नींद बड़ी सुहानी आती थी
पापा के कंधे पर खड़ा सबसे बड़ा बन जाता था
दादी की कहानियों में राजकुमार मैं ही कहलाता था
दादू के लड़खड़ाते क़दमों का सहारा मैं बन जाता था
छोटी छोटी ख़ुशियों में ऐसे ही मैं मुस्कुराता था
अब जब मैं बड़ा हो गया हूँ, ना जाने सब समझ से परे रहता हूँ।
सब कुछ वैसा ही है, फिर भी ना जाने क्यों कम ख़ुश रहता हूँ।
दुनिया की इतनी परवाह क्याें होती है,  हँसी भी कही दबी रहती है
ख़ुश रहने में क्यों डर लगता है, जब की वो तो हक़ अपना है
ऐ दोस्त ना खोज इसे और मैं
बचपन से ही तो देख रहे है इसे हम अपनी राहों में
मिल जाएगी हमें ये ढ़ूढ़गे इसे जो हम अपनी मुस्कुराहटों में
क्यों की ख़ुशी तो निर्भर होती है ख़ुद के ही विचारों में !!
शौर्य मुंधरा
5C
बांद्रा( ई)

हमारी खुशी हमपर ही निर्भर करती है।

एक नगर में एक शीशमहल था। उस महल की हर एक दीवार पर सैकड़ों शीशे जड़े हुए थे। एक दिन
एक गुस्सैल इंसान महल को देखने गया। जैसे ही वह महल के भीतर घुसा, वहां अचानक उसे सैकड़ों
गुस्सैल इंसान दिखने लगे। सारे के सारे उसी गुस्सैल इंसान से नाराज और दुःखी लग रहे थे। उनके
चहरे पर आ रहे क्रोध के तरह तरह के भावों को देखकर वह इंसान और ज्यादा क्रोधित हुआ और उन
पर चिल्लाने लगा। ठीक उसी वक्त उसे वह सैकड़ों इंसान अपने ऊपर क्रोध से चिल्लाते हुए दिखने
लगे।

इतने सारे लोगों को खुद पर नाराज होता देख वह डरकर वहां से भाग गया। कुछ दूर जाकर उसने मन ही मन सोचा
कि इससे बुरी कोई जगह नहीं हो सकती। कुछ दिनों बाद एक अन्य शांतिदूत एवं प्रेम मसीहा हाथ जोड़ शीशमहल पहुंचा।
स्वभाव से वह खुशमिजाज और जिंदादिल था। महल में घुसते ही उसे वहां दूसरा नजारा देखने को मिला। उसे सैकड़ों
इंसान हाथ जोड़ स्वागत करते दिखे। उसका आत्मविश्वास बढ़ा और उसने खुश होकर सामने देखा तो उसे सैकड़ों इंसान
खुशी एवं आनंद मनाते हुए नजर आए। यह सब देखकर उसकी खुशी का ठिकाना न रहा।

जब वह महल से बाहर आया तो उसने महल को दुनिया का सर्वश्रेष्ठ स्थान और वहां के अनुभव को
अपने जीवन का सबसे बढ़िया अनुभव माना।

हमारे अंदर और बाहर का संसार भी ऐसा ही शीशमहल है जिसमें व्यक्ति अपनी सोच एवं विचारों के अनुरूप ही
प्रतिक्रिया पाता है। जो लोग इस संसार को आनंद का लोक मानते हैं, वे यहां से हर प्रकार के सुख और आनंद के अनुभव
लेकर जाते हैं। जो लोग इसे दुःखों का कारागार समझते हैं उनकी झोली में दुःख और कटुता के सिवाय कुछ नहीं बचता।
इसलिए हम स्वयं ही अपने मित्र हैं और स्वयं ही अपने शत्रु हैं।

HIYA K. KAKKAD
V-A
BANDRA EAST

KHUSHI HUM PAR NIRBHAR HAI

क्यों हमारी और एक छोटे से बच्चे की मुस्कराहट में इतना अंतर होता हैं ?एक बच्चे की निःस्वार्थ हसीं को देखकर हमें लगता हैं ,कि मानों ईश्वर स्वयम हमारे बीच विराजमान हों lयदि किसी परिचित व्यक्ति से हमारी वार्तालाप हों ,तब शुरुआत में ‘हाउ अरे यु ‘से बातचीत शुरु होती हैं l पर यदि हम थोङा सामय और उस व्यक्ति के साथ व्यतीत करें तोः मानों दिल का चिट्ठा खुल जाता हैं …..
वही मुस्कुराती ‘में ठीक हुँ ‘ वाली हसीं ‘में बहुत परेशान हुँ ‘में परिवर्तित दिखाई पड़ती है. .l

उस हसीं में छुपी हुई होती है ज़िन्दगी की परेशानियाँ और तकलीफ़ें जो मालिक हम सबको अपने कर्मो के मुताबिक प्रदान करता है.l दलाई लामजी कहतें हैं’ प्रसनत्ता कोई पहले निर्मित वास्तु नहीं है ..वह आपके कर्मों से आती है..l प्रसन्ता शब्द अपना मतलब खो देती है यदि उसे दुःख से संतुलित न किया जाए .l दुःख सुःख का पलड़ा कभी भारी तोह कभी हल्का …l

देखा जाए कि हम अपनी ज़िन्दगी का अधिकतम समय और उर्जा रिश्तों और नातों को सँभालने में लगे रहते हैं..l हम इनमें इतना निवेश करतें हैं ,की अपेक्षाओं की लंभी लड़ियाँ बाँध देते हैं ..l यही रिश्ते फिर हममें चोट पहुँचाते है और दुःख का कारण बन जाते है ..l चाणक्याजी कहते हैं ‘सभी दुखों का जड़ लगाव है. “I

अपनी ज़िंदगी बैल जैसे धन इकट्ठा करने में जुड़ जाते हैं …l जीवन आरामदायक और आलिशान व्यतीत करने के चक्कर में अपने मूलवान उसूलों की कुर्बानियाँ करते हैं और फिर यही धन हमारी चिंता का कारण बन जाता है ….l स्पाइक मिलिगन कहते हैं ‘ पैसा आपके लिए खुशियाँ नहीं खरीद सकता लेकिन वह दुःख को कुछ सुखद रूप में अनुभव करा सकता हैं ……l

दूसरों से गृहणा ,तुलना ,भेदभाव, ईशा ,लालच जैसे विकार हमारे भीतर निवास करते हैं ..l हम भौतिकवादी वस्तुएं ,उपकरणों ,यंत्रों में सुख ढूँढ़ते हैं और फिर यही वस्तुएं दुःख का कारण बन जाती है….

खुदा की कायनात कितनी सुंदर और विशाल है. पक्षी ,पौधे, जीव, जंतु ,चाँद तारे इतने संतुष्ट प्रतीत होते हैं …l एहंकार और क्रोध की आग में लिपटा हुआ मनुष्य आत्मसंतुष्ट और खुश क्यों नहीं दिखाई देता ? ईश्वर का बनाया हुआ यह “टॉप ऑफ थी क्रिएशन “मनुष्य सैदव बेचैन और नाराज़ क्यों हैं ?

एरिस्टोटल कहते हैं प्रसनत्ता हम पर निर्भर करती है .l यदि देखने के नज़रिये को बदला जाए, तब हम अवश्य ख़ुशी प्राप्त कर सकते हैं l.उस बतक के समान जो पानी में अपना जीवन व्यतीत करती हैं, पर जब उड़ती हैं तब सूखे पंख लेकर उड़ सकती हैं l

उस ईश्वार के प्रति आभार करें, जिसने हममे सोचने और समझने की शक्ति प्रधान की l…आध्यात्मिक लक्ष्य को सामने रखते हुए अपनी ज़िम्मेदारियां निभाए …बच्चे बुज़ुर्गो की निःस्वार्थ भाव से सेवा करें किन्तु फल की अपेक्षा ना करें …l जब दूसरों की मुस्कराहट की वजह बनेंगे तब स्वयं खुशी महसूस करेंगे ..l

थॉमस मेटॉन कहते हैं ;जब महत्वकांक्षा ख़तम होती है तब ख़ुशी शुरू होती है… संतुलित दिमाग से जैसी कोई सादगी नहीं, संतोष जैसा कोई सुख नहीं, लोभ जैसी कोई बिमारी नहीं ,और दया जैसा कोई पुण्य नहीं …l

जब यह सदगुण हमारे व्यक्तित्व का हिस्सा बन जायेंगे ,तब हमारी यह बनावटी, मतलबी और चिंताजनक हंसीं ,उस छोटे से बालक जैसे होगी ….सुंदर और ख़ुशी से भरी ……

Krish jagwani
6A
AVM BE

खुशी हम पर निर्भर होती है

“बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलिया कोय।
जो दिल खोजा आपना मुझसे बुरा न कोय।।”
कबीर जी के इस दोहे में कितनी गहराई और सच्चाई है। बुराई और दुख हमारे देखने के नजरिए में होती है ,हमारी नासमझी होती है। हमारी सोच ही हमारा निर्माण करती है।
खुशमिजाज व्यक्ति सबको आकर्षित करते हैं। खुश रहने का गुण परमात्मा की देन होती है। वे सकारात्मक, निस्वार्थ और विनीत होते हैं। उनकी खुशी दूसरों को खुश करने से दुगनी हो जाती है। वे इतनी आसानी से निराश या चिंतित नहीं होते। मुश्किलों का सामना करने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं और सफलता हासिल कर सकते हैं।
खुशी एक तितली की तरह होती है। जैसे तितली जहां जाती है, वहां अपनी सुंदरता से सबको खुश कर देती है। मनुष्य को अपने जीवन के हर स्थिति में खुश रहने की कोशिश करनी चाहिए। खुशी जीवन में तथा उमंग भर देती है। जीवन को सफल बना देती है।
खुश हर कोई रहना चाहता है। बल्कि हमारे जीवन का उद्देश्य ही खुशी से जीना है। हर कोई अपने सामयिक प्रसन्नता पैसे, महत्वकांक्षा, रिश्ते आदि से जोड़ लेता है। यदि यह सब हासिल ना कर सके, तो निराश वह दुखी हो जाता है।
सच्ची खुशी सिर्फ ज्ञानियों की पूंजी होती है। हम स्वयं ही अपनी खुशी के लिए जिम्मेदार होते हैं। खुशी हमारे भीतर होती है जो हमारे नजरिए और सोच से जन्म लेती है, हमारे निर्णय का परिणाम होता है।
खुश रहने का यह मतलब नहीं कि हम हर वक्त हंसते – मुस्कुराते रहे। सच्ची खुशी एक भावना होती है जो हमारे दिल में खिल उठती है, जब हम कुछ अच्छा करते हैं। हम परेशानी की स्थिति में भी नकारात्मक को सकारात्मक में बदलकर समस्या का उत्तर पा सकते हैं। और खुशी बरकरार रख सकते हैं। मूर्ख और नकारात्मक लोगों का साथ हमेशा के लिए खुशी को हमारे जीवन से काफूर करता है। इसीलिए कहते हैं खुशी हमारे हाथ में ही होती है। वह हालातों पर नहीं हमारे विकल्पों पर निर्भर होती है। हमारे परीक्षा में भी कहा जाता है – “सही विकल्प चुनिए”।
खुशी हमारा अधिकार है। खुशी जैसे कोई खुराक नहीं। इसे अपने अंदर ही खोजना, दोस्तों।
Aarav Masrani
STD 8 C
AVM BE

अंतरिक्ष

अंतरिक्ष हमेशा मानव चर्चा का विषय रहा है। ऐसे कई सवाल हैं जो अंतरिक्ष के बारे में लोगों के दिमाग में उत्पन्न होते हैं जिनके जवाब हमेशा अधूरे होते हैं। मनुष्यों ने अंतरिक्ष के बारे में कई क्रांतिकारी खोजों की है, लेकिन अंतरिक्ष इतनी रहस्यमय है कि मनुष्य इसमें अधिक उलझ रहे हैं।
हमारे ब्रह्मांड में कई सौर मंडल हैं जिनमें कई ग्रह, तार, नक्षत्र शामिल हैं। कई ऐसे ब्रह्मांड अंतरिक्ष में शामिल हैं। अंतरिक्ष में तैरते कई बड़े जल निकायों हैं और उनमें पानी की मात्रा पृथ्वी के सभी महासागरों में पानी से कहीं अधिक है।
चूंकि अंतरिक्ष में कोई गुरुत्वाकर्षण बल नहीं है, इसलिए सभी सितारों, ग्रहों, चंद्रमा, उपग्रह आदि जैसे दिखते हैं जैसे वे हवा में तैरते हैं। यहां तक ​​कि अंतरिक्ष में जाने वाले इंसान भी ठीक से चलने में सक्षम नहीं हैं, इसलिए उन्हें एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने के लिए भी तैरना पड़ता है।
अंतरिक्ष के बारे में हमारे पास जो भी ज्ञान है वह हमेशा पर्याप्त नहीं है। कई धार्मिक पुस्तकों में अंतरिक्ष और ब्रह्मांड के बारे में कई चीजें लिखी हैं इसलिए हमें इस रहस्यमय जगह के बारे में कई सवालों के जवाब पाने के लिए आधुनिक तकनीकों के साथ-साथ आध्यात्मिक ज्ञान पर भरोसा करना होगा।
हम बस अंतरिक्ष के बारे में बात कर सकते हैं, लेकिन हम इसके बारे में कोई निर्णायक ज्ञान कभी नहीं प्राप्त कर सकते हैं।

फलक वधाण
चौथा बी
आर्य विद्या मंदिर
बांद्रा पूर्व

Visiting China

Travelling is one of the most exciting things in my life. I have visited several places in India. Kolhapur and Amritsar are my favourite places in India. I have visited places outside India too. I would like to share to you the experience of my first foreign visit.

I was thrilled when my mother informed me of our foreign tour plan to Schengen, Macau and Hong Kong. I waited eagerly for the trip. Finally the day arrived and we set off to Hong Kong.
In Hong Kong we saw the house of the legendary film star Jackie Chan. I was astounded to see his house. His house number is 99. In Hong Kong, number 9 is believed to be a very lucky number. We also visited an amusement park situated on the top of the mountain with slides shaped like dragons.

On day two we visited Disneyland. We had a lot of fun there. First we visited the Land of Adventure, where we enjoyed a rollercoaster ride named Grizzlies Grunch. I was thrilled to ride my own car there. The mere thinking of that ride delights me even today. We also visited the Toy World and Parachute Sliding. At the end of the day, fireworks were displayed in Disneyland.

In Macau, we stayed in a luxurious hotel named Venetian. A city-like atmosphere is created inside the hotel. There were casinos, boats and almost twenty floors. It felt exactly like the city of Venice. The hotel was so big that we even lost our way inside!

In Schengen, I enjoyed our visit to ‘Artificial Switzerland’ where real people were standing like statues for a whole day. We also saw the Wonders of the World in a park named ‘Window of the World’. In the park we saw the Leaning Tower of Pisa, Arch de Triomphe, Eiffel Tower, Taj Mahal, London Tower, London Bridge, the Statues of Lions in Singapore, Egypt Pyramid etc. We had a lot of fun riding in the mini train.

My first foreign journey was full of fun, excitement and thrill.

Name- Prathamesh Gangadaran
Standard – V Class- A

Days in Malaysia

I visited Malaysia with my family and friends during October 2016. It was a memorable travelling experience for me.

We flew from Mumbai to Kuala Lumpur on 21st October 2016. Our journey in Malindo Airlines was very comfortable.

After having breakfast at Putra Palace Restaurant, we proceeded for the Kuala Lumpur city tour. This tour around Malaysia’s bustling capital was a treasure. We visited magnificent architectural splendours like the National Mosque, King’s Palace, Merdeka Square, National Monument, Railway Station and Cocoa Boutique. We also visited the breath-taking Petronas Twin Towers and KL Tower. It was an amazing experience to explore these superb towers.

We stayed at the stunning Sunway Putra Hotel.
After having breakfast in the hotel, we proceeded for Sunway Lagoon Water Theme Park. It was so amazing that we spent the whole day there. There were many rides and activities to enjoy. We also enjoyed the walk on the world’s Longest Suspended Pedestrian Bridge.

The evening was all the more relaxing with the Gala Night Party at the Hotel. It was a pleasant surprise to watch the local Malaysian dancers perform some of their traditional dances. Watching them perform on Indian songs was the icing on our cake.
We visited the Batu Caves and explored the local markets for shopping. Post lunch we went to the KUL Airport for our onward journey to Langkawi.

Our one hour flight to Langkawi was a quick one, and was a beautiful ride over the Andaman Sea. We checked in at Berjaya Langkawi Resort. The resort was so big that one has to take a Buggy for internal transfers. Langkawi is an island with natural scenic beauty. I felt lucky to have visited such a beautiful place.

In the morning we proceeded for the Cable Car Tour and the Sky Bridge. On the way to the cable car there were many other attractions like Space Journey and 4D Dinosaur movie. The experience of the cable car was unimaginable. The cable car ride took us all the way up to 708 metres above the sea level. The entire ride in the cable car, the breathtaking view of the Andaman Sea and the forest around, and the walk on the Sky Bridge were certainly moments to be treasured for life.

We visited the major attraction of Langkawi, the Eagle Square. It is one of Langkawi’s best known manmade attractions, a large sculpture of an eagle poised to take flight. We did lots of shopping in Langkawi Fine Mall. We bought lots of chocolates and other souvenirs.
In the night we proceeded for our return journey to Mumbai.

This was truly the most memorable travel experience I’ve had so far. A Big Thank You to my parents.

-Pranjal Patankar
5A, AVM BE

सफ़र: कया अजीब नहीं है ये?

सफ़र: कया अजीब नहीं है ये?
क्या अजीब नहीं है ये,
कि काले से लगते ये रास्ते,
ज़िन्दगी के कई रंग दिखा जाते है…?

क्या अजीब नहीं है ये,
किपहिये पर चल रही गाड़ी
मज़बूत पैरो को भी डगमगाती है…?

क्या अजीब नहीं है ये,
कि बिना जज़्बातों के ये पथरीले रास्ते,
लोगो में जज़्बातों की जुबां बन जाती है…?

क्या अजीब नहीं है ये,
कि परस्पर हरिफाई में झोके गए इस दुनिया में,
दोस्ती हमेशा ही जीत जाती है… ?

क्या अजीब नहीं है ये,
कि सफर में हमसफ़र मिल जाने से भी,
आज़ादी सही मायनों में बंधनो में बंध कर मिलती है…

क्या अजीब नहीं है ये,
कि बिना रुके आगे बढ़ते बढ़ते सफर में,
हम असलियत में ठहराव और अनमोल पल कमा लेते है… ?

क्या अजीब नहीं है ये,
कि हमेशा बहने वाली नदी स्वयं को साफ़ करती है,
और तालाब बेबस अस्वच्छ रहता है… ?

इन रास्तों के सफर में, जहा गाड़ियां और मुसाफिर,
जज़्बातों से कई अधिक संवेदनाएं लेकर
अपने अपने मुकाम ढूंढ रहे है,
ऐसी दुनिया मे…क्या अजीब नहीं है ये…

क्या अजीब नहीं है ये.
जीवन क्षणभंगुर होने के बावजूद,
लोग सफर करते है…?

क्या अजीब नहीं है ये,
कि लोग इस सफर के मुकाम से ज़्यादा,
सफर को ही मुकाम बना लेते है… ?

बेशक अजीब है…
शायद इसीलिए ये ज़िन्दगी है…

MISHTI RATHOD
7 A
ARYA VIDYA MANDIR BANDRA (EAST)

अंतरिक्ष में आश्चर्य

कुछ वर्ष पहले की बात है । तीन दोस्त थे,देवेन,भावेश और प्रेमराज । एक दिन वे “कोई मिल गया” फ़िल्म देखने गए । फ़िल्म की कहानी में जादू नामक अन्यदेशीय को देखकर उन्हें बड़ा आश्चर्य हुआ और उसी प्रकार के अन्यदेशियों को मिलने की इच्छा प्रकट हुई ।

अपनी इसी इच्छा को पूरी करने के लिए उन तीनों ने कुछ दिनों के बाद अंतरिक्ष यात्री बनने के लिए प्रशिक्षण शुरु किया । कुछ सालों की कड़ी मेहनत के बाद , वे प्रशिक्षित अंतरिक्ष यात्री बन गए । उन्होंने अंतरिक्ष में जाने की अनुमति लेने के लिए सरकार को आवेदन पत्र भेजा । सरकार ने उनका पत्र स्वीकार कर उन्हें अनुमति दे दी । वे बहुत ख़ुश खे , आख़िर उनकी इतने सालों की मेहनत कुछ तो रंग लाई । कई तैयारियों के बाद , वे अंतरिक्ष में जाने के लिए उद्यत थे । जिस दिन का , तीनों दोस्तों को , बेसब्री से था इंतज़ार , आख़िर वह दिन आ ही गया । देवेश,भावेश और प्रेमराज ने अपने-अपने परिवारों को अलविदा कहा । वे एक स्पेस शटल में बैठे और पंछी की तरह उड़ गए । अंतरिक्ष में आते ही , उन्हें अलग महसूस होने लगा । दूर-दूर , सितारे चमक रहे थे । जब उन्होंने पीछे देखा,तो उन्हें एहसास हुआ कि असल में धरती कितनी सुंदर ग्रह है । देवेश ने तो कभी ऐसा नज़ारा नहीं देखा था ,और भावेश को ऐसा लग रहा शा जैसे वह स्वर्ग में पहुँच गया । प्रेमराज को तो विश्वास ही नहीं हो रहा था की वह अंतरिक्ष में था ।तीनों दोस्तों की ख़ुशी का ठीकाना न रहा ।वे अन्य देशीयों को देखने के लिये बहुत आतुर हो रहे थे ।वे बातों बातों में अपनी भावनाएँ व्यक्त कर ही रहे थे की अचानक स्पेस शटल में ये कुछ आवाज़ों आने लगी।उन्होंने पता लगाया की सपेसशटल में कुछ ख़राबी थी।धीरे धीरे वह उनके नियंत्रण से बाहर जाने लगा।वह तीनों बेचैन होने लगे,उन्हें डर लग रहा था कहीं उनका स्पेस शटल किसी ग्रह से टकरा न जाए।काफ़ी देर के लिये , वे अँतरिक्ष में घुमते रहे जब अचानक से उन्हें एहसास हुआ कि वे तेज़ी से एक लाल रंग के ग्रह। की आेर बढ़ रहे थे।उन्हें पता नहीं था की क्या किया जाए।कुछ ही सेकेंड में ,वे ग्रह से टकरा गयेपर स्पेस। शटल के उत्पाद की गुणवतताओं के कारण वे सुरक्षित थे और उन्हें ज़्यादा चोट नहीं आइ।वे किसी तरह बिगड़े और आधे टूटे हुए यंत्र से बाहर निकले। और सोचने लगे कि अब वे क्या करेंगे? न कोइ लोग या अन्य देशिय ,स्पेस शटल बिगड़ा हुआ और उन्हें यह नहीं पता की वे कहाँ थे वे बहुत डरे हुवे थे।कुछ क्षणों के बाद उन्हें दूर से किसी प्रकार के विचित्र प्राणी उनके तरफ़ आते हुए नज़र आेए।देवेश,भावेश और प्रेमराज हकके-बकके रह गए।वे पीछे की और चलने लगे और उलटी दिशा मेंघूमकर दौड़ने लगे पर वहाँ से भी वे विचित्र प्राणी चलते हुए नज़र आेए।अन्य देशीयों ने उन्हें घेर लिया था वे उन प्राणियों को देखकर ख़ुश और उत्सुक तो थे पर साथ ही साथ तीनों घबराये हुए भी थे ।अनयदेशियों का शरीर नीले रंग का था।उनकी एक आँख,एक नाक,एक मुँह और चार कान थे।उनकी भाष। धरती की भाषाओं जैसी ही थी,यह आश्चर्य की बात थी।अन्यदेशीयों ने स्पेस शटल ठीक कर दिया और साथ ही साथ अन्यदेशीयाें ने देवेश,भावेश और प्रेमराज को एक जादुई यंत्र दिया जिससे वे फिर धरती पर जाने का रास्ता ढूँढ सकते थे।तीनों ने अन्य देशीयों का शुक्रिया अदा किया और अपने स्पेस शटल में बैठकर निकल गए।

धरती पर भारत में पहुँचकर उन्होंने सारे लोगों को उनकी अचम्भे में डाल देनेवाली कहानी बताई।बड़ी मुश्किल से लोगों के गले से हमारी आपबीती कहानी उतरी।पर देवेश ,भावेश और प्रेमराज का यह अनुभव वे कभी नहीं भुलेंगे।

Hetanshi Shah
7 A
VCW AVM BE

भूटान

इस साल के मई के महीने में मुझे भारत के पड़ोसी देश, खूबसूरत भूटान जाने का मौका
मिला. भूटान हिमालय पर बसा दक्षिण एशिया का एक छोटा और महत्वपूर्ण देश है. भूटान
दुनिया के उन कुछ देशों में से है जो खुद को शेष संसार से अलग रखता चला आ रहा है.
भूटान की ज़्यादातर आबादी छोटे गांव में रहती है और कृषि पर निर्भर है. बौध विचार यहाँ
की ज़िंदगी का अहम हिस्सा है. तीरंदाजी यहाँ का राष्ट्रीय खेल है.
मेरे यात्रा के कार्यक्रम में भूटान डाकघर, फुनाखा निलंबन पुल और टाइगर नेस्ट था. टाइगर
नेस्ट, भूटान के सबसे पवित्र और अद्भुत बौध स्थलों में से एक है. टाइगर नेस्ट ३००० मीटर
ऊँची चट्टान पर बना है. टाइगर नेस्ट को १६९२ में बनाया गया था. भूटान की राजधानी
थिंपू से कुछ घंटों की दूरी पर यह मोनॅस्ट्री स्थापित है. टाइगर नेस्ट मेरे लिए मुख्य
आकर्षण था. यात्रीगण पैदल यात्रा करके इस नेस्ट तक पंहूचते हैं और हमें भी हमारे गाइड ने
पूरी तरह से तैयार होकर आने की सलाह दी थी. कुछ लोग इस यात्रा को मध्य भाग तक
घोड़े पर सवार होकर तय करते हैं. किंतु हमने यह तय किया था की हम पैदल ही इस यात्रा
को संपूर्ण करेंगे. हम सब सुबह ८ बजे तैयार होकर यात्रा आरम्भ स्थल पर पंहुच गये. हम
सब बहुत खुश और उत्साहित थे. हमारे गाइड ने कहा था की यह यात्रा लगभग ६ घंटो में
पूरी की जा सकती है. मैंने बहुत जोश और मनोबल से चढ़ना आरम्भ किया. जैसे-जैसे उपर
चढ़ती गई, वैसे ही थकावट बढ़ती गई. मेरे पिताजी ने रह रह कर यह याद दिलाया कि हमें
हर हाल में साहस बनाए रखना है और अपने पैरों के सहारे टाइगर नेस्ट पहुँचना है. यह
सुनकर मेरा मनोबल बना रहा और मैं यात्रा में आगे बढ़ती चली गई. मेरे पिताजी अपने
कैमरे से अच्छी दृश्यों की छवि उतारते रहे. जब यात्रा के मध्य भाग से टाइगर नेस्ट केवल
एक लघु मात्रा में दिख रहा था, इससे यह समझ में आया कि यात्रा आगे और भी कठिन है.
हाँफते हाँफते मैं टाइगर नेस्ट किसी तरह से पंहुच गई. मेरी खुशी के ठिकाने नहीं रहे जब
वहाँ का सुंदर दृश्या देखा. हम सब अपनी थकावट भूल गये और पूरा मोनॅस्ट्री घूम कर
अच्छी तरह से देखा.
भूटान की संस्कृति और उनका धर्म स्थल वास्तव में बहुत सुंदर लगा. हमने इस अवसर का
भरपूर लुफ्त उठाया और बहुत ज्ञान अर्जित किया.

मुग्धा मोहंती
कक्षा ६
बांद्रा पूर्व