अनुभव जीवन का सबसे बड़ा शिक्षक

श्याम एक फुटबॉल खिलाडी था। वह आज एक प्रोफेशनल मैच खेलें वाला था। उसके पास बहुत ज़्यादा टैलेंट था। जब टीम की सिलेक्शन हो रही थी तो उसने शानदार प्रदर्शन दिखाया था और तुरंत सेलेक्ट हो गया।  उसके पास खेल के बारे में बहुत शिक्षा थी परन्तु अनुभव जो की सबसे है वह उसके पास नहीं था। वह बहुत डर गया था। जब मैच का समय आया तो उसके पसीने छूट पड़े। उसने आसान से आसान शॉट मिस  कर दिए और उसकी टीम बहुत बुरी तरीके से हार गयी। वह  बहुत  महसूस करने लगा। उसमे बिलकुल भी आत्मविश्वास नहीं बचा। उसने टीम छोड़ने का भी सोचा। पर अँधेरे में रोशनी की तरह उसके दोस्तों ने उसकी मदद की। उसको खुश करने में उसके दोस्तों ने महत्वपूर्ण योगदान दिया। उसने वापस मैच खेले और श्रेष्ठ खिलाडी बन गया। वह अपना हर मैच में कम से कम दो गोल मरता था। सोचो की पाँच साल के अनुभव ने श्याम की पूरी ज़िन्दगी बदल दी। पर अनुभव के साथ कड़ी मेहनत और परिश्रम करना पड़ता है। सबसे  महत्वपूर्ण बात है जो भी हो हमे कभी भी , किसी भी वजह से अपना आत्मविश्वास नहीं खोना चाहिए।

अनीष पटनी( 9A)

AVM JUHU